सिद्धक्षेत्र – द्रोणगिरि(लघुसम्मेद शिखरजी)

श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी

नाम एवं पता: सिद्धक्षेत्र – संबद्धता क्र. 42 

सिद्धक्षेत्र - द्रोणगिरि(लघुसम्मेद शिखरजी)

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र द्रोणगिरि (लघु सम्मेदशिखर)
ग्राम – सेंधपा, तहसील – बड़ा मलेहरा, जिला – छतरपुर (म.प्र.), पिन – 471311
फोन नं. – 07689-280972, 252206, 20052, 53, 54
मो. – 9425144006

Sign Up To Election Volunteer

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Aliquam semper lacus at massa ultricies auctor. Integer sodales

सिद्ध-क्षेत्र

क्षेत्र का महत्व एवं ऐतिहासिकता

द्रोणगिरि पर्वत से गुरूदत्त मुनि के साथ साढे आठ करोड मुनियों ने निर्वाण प्राप्त किया है। पर्वत पर जाने के लिये 170 सीढियां बनी हुई है। पर्वत पर 38 जिनालय एवं तीन गुफाएँ है। पर्वत के पास ही दो कुण्ड है जिनका जल सर्दियों में गर्म तथा गर्मी में ठण्डा रहा है। इस क्षेत्र के दोनो ओर चंदाक्षीप, श्यामरी नामक दो नदियाँ बहती है। पर्वत की तलहटी में प्राचीन आदिनाथ जिनालय में मूल नायक आदिनाथ तीर्थंकर के अतिरिक्त छोटी बडी 125 प्रतिमायें स्थापित है। अष्ट धातु से निर्मित समवशरण की छवि देखते बनती है। श्यामरी नदी तट पर स्थित चौबीसी जिनालय में तीर्थंकर ऋषभदेव मूलनायक की 5 फीट अति मनोहर अतिशय प्र्रतिमा के साथ दोनो तरफ 24 तीर्थंकरों को प्रत्येक वेदी पर विराजमान किया गया है। मुख्य द्रोणगिरि पर तीन टोक में मंदिर स्थित है जिसमें प्रथम सुपार्श्वनाथ भगवान के नाम से जानी जाती है, तृतीय टोंक आदिनाथ टोक कहलाती है इसी टोक पर चर्तुमुखी मानस्तम्भ भी स्थित है। द्वितीय टोंक पर चन्द्रप्रभू के साथ शांतिनाथ, महावीर स्वामी जी के जिनालय स्थित है। इसी टोंक पर कांच की नक्काशी से युक्त भव्य जिनालय भी है।

श्री सिद्धायतन (एक मंदिर) और 20 तीर्थंकर जिनालय का निर्माण और प्रबंधन श्री कुंद-कुंद कहन दिग द्वारा किया गया। जैन स्वाध्याय मंदिर ट्रस्ट भी यहां है|

देश का एक मात्र – नि:शुल्क शिक्षा के साथ  रोजगार प्रदान कराने वाला संस्थान 

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी द्वारा  द्रोणगिरि सिद्धक्षेत्र पर सन  1999 से  “श्री  दिगम्बर जैन तीर्थ प्रबंधन प्रशिक्षण संस्थान- द्रोणगिरि”  नाम से संस्था सुचारू रूप से चलायमान है |विद्यालय   में  प्रत्येक वर्ष भारत देश के विभिन्न प्रान्तों से विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रोजगार के अवसर प्राप्त  करते हैं |  यह संस्था 9 महीने का निशुल्क प्रशिक्षण देकर विद्यार्थियों को रोजगार प्रदान कराती हैं | संस्था से प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके विद्यार्थी  विभिन्न क्षेत्रों एवं शहरों  में  नियुक्त होकर सेवाएं दे रहे हैं |

विद्वत्व शिक्षा – विधिविधान, जैनदर्शन, ज्योतिष, वास्तु एवं हस्तरेखा 

मेनेजमेंट शिक्षा– लेखाप्रबंध, कम्प्यूटर, कार्यालयप्रबंध एवं सामान्य प्रबंध  

प्रवेश समय – जुलाई , परीक्षा समय  – मार्च   

सुविधाएँ – भोजन, शिक्षा , आवास के साथ रोजगार  (सभी सुविधाएँ निशुल्क हैं|)

संपर्क करने के लिए नीचे दिए गये प्रबंध व्यवस्था पर जाएँ 

Jackson Franco for US

Support Our Activities
By a Donation

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Aliquam semper lacus at massa ultricies auctor. Integer sodales commodo erat, sed blandit tellus molestie sed. Donec eu magna metus. Ut et semper ipsum, non iaculis urna

[give_form id=”246″ display_style=”button”]

Our Campaign

Our Campaign

Proin nec blandit magna, vel eleifend justo. Nunc sapien diam, pulvinar finibus Read More
Make Donation

Make Donation

Proin nec blandit magna, vel eleifend justo. Nunc sapien diam, pulvinar finibus Read More
Volunteer

Volunteer

Proin nec blandit magna, vel eleifend justo. Nunc sapien diam, pulvinar finibus Read More

अतिशय क्षेत्र – चंदेरी

श्री दिगम्बर जैन चौबीसी बड़ा मन्दिर - चंदेरी

सिद्ध क्षेत्र – द्रोणगिरि

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र- द्रोणगिरि (लघु सम्मेदशिखरजी)

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास कमरे (मय स्नानगृह) – 15, (बिना स्नानगृह) – 83, हाल – 3 (यात्री क्षमता – 500), गेस्ट हाउस – 1, संत निवास – 1,यात्री ठहराने की कुल क्षमता – 2000, भोजनशाला -सशुल्क अनुरोध पर, औषधालय – उपलब्ध (आयुर्वेदिक) निःशुल्क,
पुस्तकालय – उपलब्ध,विद्यालय – प्रशिक्षण संस्थान एवं  उदासीन आश्रम

समीपवर्ती तीर्थक्षेत्र

अहारजी 58 कि.मी., पपौरा जी – 58 कि.मी.,नैनागिरि– 88 कि.मी.,खजुराहो -107 कि.मी.,डेरा पहाडी – 57 कि.मी., सोनागिरि – 225 कि.मी.,
कुण्डलपुर – 147 कि.मी.,देवगढ़ – 152 कि.मी.।

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन हरपालपुर एवं सागर – 117 कि.मी.,झाँसी – 175, कि.मी.,ललितपुर – 120 कि.मी.,दमोह – 103 कि.मी.। हवाई अड्डा – खजुराहो – 107 कि.मी.। बस स्टैण्ड – बड़ा मलहरा – 7 कि.मी., छतरपुर – 57 कि.मी., टीकमगढ़ – 60 कि.मी.।पहुँचने का सरलतम मार्ग – बड़ा मलहरा से द्रोणगिरि क्षेत्र सड़क मार्ग। राष्ट्रीय मार्ग – 86, कानपुर, सागर, बड़ा मलहरा से प्रति 30 मिनिट में वाहन उपलब्ध।

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्थाश्री दिगम्बर जैन तीर्थ प्रबंधन प्रशिक्षण संस्थान केंद्र – द्रोणगिरि।
अध्यक्ष – श्री कपूरचन्द्र जैन- घुवारा
 मंत्री -श्री भागचन्द्र जैन पीली दुकान – बड़ामलेहरा (9425144006)
प्राचार्य – पं. रमेशचन्द्र  शास्त्री  – घुवारा (9926569762
शिक्षक – पं. देवेश शास्त्री – वलेह  (9009672513)

संस्थाश्री गुरूदत्त दिगम्बर जैन उदासीन आश्रम ट्रस्ट लघु सम्मेद शिखर – द्रोणगिरि।
अध्यक्ष (प्रबन्ध समिति) – श्री संतोषकुमार जैन (घडी साबुन) सागर (07582-243292)(ट्रस्ट कमेटी) – डॉ. हेमचंद जैन ‘‘फणीन्द्र‘‘ (07689-252377)
उपाध्यक्ष – श्री हुकुमचंद जैन (मधु) (07683-240302)श्री शिखरचन्द्र जैन (07682-240382)।

JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US JACKSON FRANCO FOR US

Jackson Franco for US

Promises Made,
Promises Kept

Proin nec blandit magna, vel eleifend justo. Nunc sapien diam, pulvinar finibus nulla ut, viverra molestie ex. Pellentesque eu nunc et ipsum sollicitudin hendrerit ac non sapien

Mission & Vision Statement

home-bg-14-min

To inspire humanity

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Phasellus odio diam

home-bg-15

Better living programs

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Phasellus odio diam

चित्र प्रदर्शनी

वीडियो गैलरी

दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र – द्रोणगिरि

निकटतम प्रमुख
नगर

बड़ा मलहरा – 7 कि.मी., छतरपुर -40 कि.मी.।

मेला एवं उत्सव

क्षेत्र पर प्रतिवर्ष फाल्गुन महिने में मेले का आयोजन किया जाता है।

तीर्थक्षेत्र की वेबसाइट
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
तीर्थक्षेत्र की वेबसाइट वेबसाइट पर जाएँ
धर्मशाला आरक्षित करें
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
धर्मशाला आरक्षित करें आरक्षित करें
तीर्थक्षेत्र के विभिन्न योजनाओं के लिए दान करें
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
तीर्थक्षेत्र के विभिन्न योजनाओं के लिए दान करें दान करें

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी का इतिहास

देश भर में दूरदूर तक स्थित अपने दिगम्बर जैन तीर्थयों की सेवा-सम्हाल करके उन्हें एक संयोजित व्यवस्था के अंतर्गत लाने के लिए किसी संगठन की आवश्यकता है , यह विचार उन्नीसवीं शताब्दी समाप्त होने के पूर्वसन् 1899 ई. में, मुंबई निवासी दानवीर, जैन कुलभूषण, तीर्थ भक्त, सेठ माणिकचंद हिराचंद जवेरी के मन में सबसे पहले उदित हुआ ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.Required fields are marked *