सिद्ध क्षेत्र – कमलदहजी

नाम एवं पता; संबद्धता क्र. 7 

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र, कमलदहजी

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र, कमलदहजी

पता: सुदर्शन पथ, गुलजार बाग,

पटना (बिहार), पिन – 800007

टेलीफोन – 0612-2635309, मो. – 098356-39714

सिद्ध क्षेत्र – कमलदहजी

क्षेत्र का महत्व एवं ऐतिहासिकता

चम्पानगर (भागलपुर) में जन्मे महामुनि सुदर्शनजी का निर्वाण स्थल। यहां जिन मन्दिर में नेमिनाथजी की मूलनायक प्रतिमा है।

उपलब्ध सुविधाएं

श्री दिगम्बर जैन सिद्ध क्षेत्र, कमलदहजी

क्षेत्र पर उपलब्ध सुविधाएँ

आवास – कमरे – 15, हाल – 1, गेस्ट हाऊस – 1, यात्री ठहराने की कुल क्षमता – 250।।

आवागमन के साधन

रेल्वे स्टेशन – पटना जंक्शन – 7 कि.मी., पटना साहिब – 4 कि.मी.।

बस स्टैण्ड – मीठापुर – 7 कि.मी.

पहुँचने का सरलतम मार्ग – पटना जंक्शन से आटो रिक्शा द्वारा एवं पैसेन्जर ट्रेन गुलजार बाग के लिए ।

समीपस्थ तीर्थ क्षेत्र

पावापुरी – 80 कि.मी., कुण्डलपुर – 90 कि.मी., राजगिर – 100 कि.मी., गुणावाँ – 95 कि.मी., वैशाली – 60 कि.मी., पटना सिटी – प्राचीन तीन मंदिर, मीठा जैन मन्दिर।

प्रबन्ध व्यवस्था

श्री बिहार प्रादेशिक दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

अध्यक्ष – श्री साहू शरदकुमार जैन, मुम्बई

मंत्री – श्री अजयकुमार जैन, पटना (09334396920)

मेला मंत्री – श्री महेन्द्रकुमार जैन, पटना (0612-2211689)

प्रबन्धक – श्री पवनकुमार जैन (09835639714

तीर्थक्षेत्र की वेबसाइट
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
तीर्थक्षेत्र की वेबसाइट वेबसाइट पर जाएँ
धर्मशाला आरक्षित करें
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
धर्मशाला आरक्षित करें आरक्षित करें
तीर्थक्षेत्र के लिए दान करें
भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी
तीर्थक्षेत्र के लिए दान करें दान करें
निकटतम प्रमुख नगर:
पटना - 7 कि.मी.।
वार्षिक मेला/उत्सव:
प्रतिवर्ष पौष शुक्ल पंचमी को महामुनि सुदर्शन स्वामी का निर्वाणोत्सव मनाया जाता है।

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी का इतिहास

देश भर में दूरदूर तक स्थित अपने दिगम्बर जैन तीर्थयों की सेवा-सम्हाल करके उन्हें एक संयोजित व्यवस्था के अंतर्गत लाने के लिए किसी संगठन की आवश्यकता है , यह विचार उन्नीसवीं शताब्दी समाप्त होने के पूर्वसन् 1899 ई. में, मुंबई निवासी दानवीर, जैन कुलभूषण, तीर्थ भक्त, सेठ माणिकचंद हिराचंद जवेरी के मन में सबसे पहले उदित हुआ ।


Leave a Reply

Your email address will not be published.Required fields are marked *