प्रकाशन

भारतवर्षीय दिगंबर जैन

तीर्थक्षेत्र कमेटी से संबद्ध तीर्थक्षेत्र

अनादि कालीन श्रमण संस्कृति का संरक्षण-संवर्धन इस युग के प्रथम तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव के पुत्र प्रथम चक्रवर्ती भरत के द्वारा करोड़ों वर्षों से चला आ रहा है। पुनः पंचम् काल में महान जैनाचार्य एवं अनेक जैन धर्मावलम्बी राजा-महाराजाओं द्वारा इस संस्कृति का संपोषण किया गया है, इसी का शुभ परिणाम है कि आज भी जैन संस्कृति की धर्म- ध्वजा फहरा रही है तथा इस संस्कृति के माध्यम से समूची मानव जाति को अहिंसा का संदेश दिया जाता है । इस संस्कृति के प्राण हैं देश-विदेश में स्थित तीर्थ स्थान, जो हजारों वर्षों से खड़े हुए हैं और जैन धर्म की यश गाथा गा रहे हैं ।

नया प्रकाशन प्राप्त करें

प्रकाशन प्राप्त करें
यदि आप नए उपयोगकर्ता हैं, तो कृपया डाउनलोड के लिए पंजीकरण करें.
पंजीकरण करें डाउनलोड करें
प्रकाशन प्राप्त करें
यदि आप नए उपयोगकर्ता हैं, तो कृपया डाउनलोड के लिए पंजीकरण करें.
पंजीकरण करें डाउनलोड करें
प्रकाशन प्राप्त करें
यदि आप नए उपयोगकर्ता हैं, तो कृपया डाउनलोड के लिए पंजीकरण करें.
पंजीकरण करें डाउनलोड करें
प्रकाशन प्राप्त करें
यदि आप नए उपयोगकर्ता हैं, तो कृपया डाउनलोड के लिए पंजीकरण करें.
पंजीकरण करें डाउनलोड करें

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी का इतिहास

देश भर में दूरदूर तक स्थित अपने दिगम्बर जैन तीर्थयों की सेवा-सम्हाल करके उन्हें एक संयोजित व्यवस्था के अंतर्गत लाने के लिए किसी संगठन की आवश्यकता है , यह विचार उन्नीसवीं शताब्दी समाप्त होने के पूर्वसन् 1899 ई. में, मुंबई निवासी दानवीर, जैन कुलभूषण, तीर्थ भक्त, सेठ माणिकचंद हिराचंद जवेरी के मन में सबसे पहले उदित हुआ।