दान हेतु तीर्थक्षेत्र कमेटी के बैंक खाते

  • Home
  • दान हेतु तीर्थक्षेत्र कमेटी के बैंक खाते

दान राशि

सदस्यता शुल्क एवं दान राशि जमा करने हेतु बैंक खाते

भारत के कोने कोने में अनदेखी और अनजान प्राचीन तीर्थ क्षेत्र भरे पड़े हुए हैं। जिसमें मुख्य राज्य हैं बिहार बंगाल झारखंड उड़ीसा आंध्र प्रदेश तेलंगाना तमिल नाडु कर्नाटक और केरल। इन राज्यों में जैन धर्म की प्राचीन ऐसी ऐसी धरोहर हैं जिसकी आप कल्पना नहीं कर सकते हैं। पर अनेक स्थानों पर वह अत्यंत जर्जर अवस्था में है इसलिए हम भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थ क्षेत्र कमेटी की ओर से देश विदेश में बसे हुए जैन बंधुओं से आह्वान करते हैं वे इन क्षेत्रों के संरक्षण के लिए आगे आएं और तीर्थक्षेत्र कमेटी को सहयोग करें। आप अपनी सहयोग राशि इन खातों में जमा कर सकते हैं। राशि जमा करने के बाद हमारे ईमेल आईडी पर सूचित करें ।

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी का इतिहास

देश भर में दूरदूर तक स्थित अपने दिगम्बर जैन तीर्थयों की सेवा-सम्हाल करके उन्हें एक संयोजित व्यवस्था के अंतर्गत लाने के लिए किसी संगठन की आवश्यकता है , यह विचार उन्नीसवीं शताब्दी समाप्त होने के पूर्वसन् 1899 ई. में, मुंबई निवासी दानवीर, जैन कुल भूषण, तीर्थ भक्त, सेठ माणिकचंद हिराचंद जवेरी के मन में सबसे पहले उदित हुआ । सेठ साहब मुंबई प्रतिक दिगम्बर जैन सभा के सर्वेसर्वा थे। अपने संकल्प को साकार करने के लिए उन्होंने उसी सभा में तीर्थ रक्षा विभाग की स्थापना की तथा समीपस्थ शत्रुजय, सारंगा और पावागढ़ आदि क्षेत्रों पर जीणोद्धार एवं व्यवस्था संबंधी कार्य प्रारम्भ कराये । यह व्यवस्था सेठ माणिकचंदजी के विराट संकल्पों की पूर्ति नहीं कर पाई । इतने बड़े देश में फैले हुए अनगिनत लीथों की रक्षा के लिए एक स्वतंत्र संस्था की आवश्यकता उनके दूरदर्शी मन में प्रखरता से उभरती रही । भारतवर्षीय दिगम्बर जैन महासभा के अधिवेशनों के अवसर पर जवेरी जी ने अपने पूज्य तीथों के विधिवत संरक्षण और संचालन की आवश्यकता समाज के सामने प्राथमिकता के रूप में प्रस्तुत की। उनके विचारों को समाज की सहमति प्राप्त हुई और इस लक्ष्य की पूर्ति के प्रति समाज में एक उत्साह भरा वातावरण बनने लगा ।

भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

व्यक्तिगत / साझेदारी
संस्था सदस्यता
फार्म प्राप्त करें

Registered under Indian Society Act of 1960
bearing No.570 of 1930 Bombay Public Trust Act,
of 1950 bearing No.F/10 of 1952
कार्यालय : हीराबाग, सी पी टैंक, मुंबई – ४०० ००४

सदस्यता शुल्क एवं दान राशि जमा करने हेतु बैंक खाते

खाते का नामः भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी, मुंबई

A/c Name: Bharatvarshiya Dig. Jain Tirthkshetra Committee, Mumbai.

क्र. सं.
S. No.
बैंक का नाम
Bank Name
खाता क्र.
Account No.
आई एफ एस सी
IFSC:
1. बैंक ऑफ बड़ौदा, वीपी रोड शाखा, मुंबई
Bank of Baroda, V. P. Road Br.
13100100008770 BARB0VPROAD
2. बैंक ऑफ इंडिया, सीपी टैंक शाखा, मुंबई
Bank of India, C.P. Tank Br.
001210100017881 BKID0000012
3. भारतीय स्टेट बैंक, गिरगाँव शाखा, मुंबई
State Bank of India, Girgaon Br.
10047763077 SBIN0000374

आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 जी का लाभ पाने के इच्छुक दानदाता अपनी राशि इस खाते में जमा करें

खाते का नामः भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी, मुंबई

A/c Name: Bharatvarshiya Dig. Jain Tirthkshetra Committee, Mumbai.

क्र. सं.
S. No.
बैंक का नाम
Bank Name
खाता क्र.
Account No.
आई एफ एस सी
IFSC:
1. बैंक ऑफ बड़ौदा, वीपी रोड शाखा, मुंबई
Bank of Baroda, V. P. Road Br.
13100100008771 BARB0VPROAD

भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी, दिगंबर जैनों
की एक अखिल भारतीय संस्था है।

इसके मुख्य उद्देश्य इस प्रकार हैं:
1) प्राचीन दिगंबर जैन मंदिर, क्षेत्रों (सिद्ध क्षेत्र, अतिशय क्षेत्र, अन्य क्षेत्र), प्रतिमाओं (मूर्तियों), लिपि, शिलालेखों की पहचान व खोज करना और तीर्थक्षेत्रों के बारे में विस्तृत सर्वेक्षण करवाना।

2) प्राचीन दिगंबर जैन मंदिर, क्षेत्रों (सिद्ध क्षेत्र, अतिशय क्षेत्र, अन्य क्षेत्र), प्रतिमाओं (मूर्तियों), लिपि, शिलालेखों की पहचान व खोज करना और तीर्थक्षेत्रों के बारे में विस्तृत सर्वेक्षण करवाना।

3) विभिन्न सरकारी विभागों (भारतीय पुरातत्व विभाग आदि) के साथ समन्वय करना और प्राचीन मंदिर / क्षेत्रों की मरम्मत के लिए सरकारी अनुदान प्राप्त करने का प्रयास करना।